Gam Shayari

Na Khushi Ki Talash Hai

Na Khushi Ki Talash Hai Na Gam-E-Nijat Ki Arzoo,
Mai Khud Se Naraj Hun... Teri Berukhi Ke Baad.

ना ख़ुशी की तलाश है ना गम-ए-निजात की आरज़ू,
मैं खुद से नाराज़ हूँ... तेरी बेरुखी के बाद।

couple image

Read more →

-Advertisement-

Muskurate Palko Pe

Muskurate Palko Pe Sanam Chale Aate Hein,
Aap Kya Jaano Kahan Se Hamare Ghum Aate Hain,
Aaj Bhi Us Mod Par Khade Hain,Jaha
Kisi Ne Kaha Tha Ke Theron Hum Abhi Aate Hain.

मुस्कुराते पलको पे सनम चले आते हैं,
आप क्या जानो कहाँ से हमारे गम आते हैं,
आज भी उस मोड़ पर खड़े हैं,जहाँ
किसी ने कहा था कि ठहरो हम अभी आते है।

gham shayari

Read more →

Aapka Gham Mujhe

Mere Kamre Me Andhera Nahin Rahne Deta,
Aapka Gam Mujhe Tanha Nahin Rahne Deta.

मेरे कमरे में अँधेरा नहीं रहने देता,
आपका ग़म मुझे तन्हा नहीं रहने देता।

Manjilo Ke Gam Me Rone Se Manjile Nahi Milti,
Honsle Bhi Toot Jaate Hain Aksar Yaad Karne Se.

मंज़िलों के ग़म में रोने से मंज़िलें नहीं मिलती,
हौंसले भी टूट जाते हैं अक्सर उदास रहने से।

Janta Hun Ek Shakhs Ko Main Bhi 'Munir'
Gam Se Patther Ho Gaya Lekin Roya Nahi.

जानता हूँ एक ऐसे शख्स को मैं भी 'मुनीर',
ग़म से पत्थर हो गया लेकिन कभी रोया नहीं।
~ Munir Niazi

-Advertisement-

Mohabbat Nibha To Di

Apni Tabahiyon Ka Mujhe Gam To Hai Magar,
Tum Ne Kisi Ke Saath Mohabbat Nibha To Di.

अपनी तबाहियों का मुझे गम तो है मगर,
तुम ने किसी के साथ मोहब्बत निभा तो दी।

very sad girl

Read more →

-Advertisement-

Gam Ne Jeene Na Diya

Maut-o-Hasti Ki KashmKash Me Kati Tamaam Umr,
Gam Ne Jeene Na Diya Shauq Ne Marne Na Diya.

मौत-ओ-हस्ती की कश्मकश में कटी तमाम उम्र,
ग़म ने जीने न दिया शौक़ ने मरने न दिया।

Read more →