Ilzaam Shayari

Hans Kar Kabool

Hans Kar Kabool Kya Kar Li Sajayen Maine,
Jamane Ne Dastur Hi Bna Diya Har Ilzaam Mujh Par Madhne Ka.

हँस कर कबूल क्या कर ली सजाएँ मैंने,
ज़माने ने दस्तूर ही बना लिया हर इलज़ाम मुझ पर मढ़ने का।

-Advertisement-

Dil Ki Khwahis

Ilzaam Shayari - Dil Ki Khwahis

Dil Ki Khwahis Ko Naam Kya Dun,
Pyar Ka Use Paigaam Kya Dun,
Is Dil Me Dard Nahin, Uski Yaaden Hain,
Ab Yaaden Hi Dard De,
To Use Ilzaam Kya Dun.

दिल की ख्वाहिश को नाम क्या दूँ,
प्यार का उसे पैगाम क्या दूँ,
दिल में दर्द नहीं, उसकी यादें हैं,
अब यादें ही दर्द दे,
तो उसे इल्ज़ाम क्या दूँ।

Lafjon Se Itna Ashiqana

Lafjon Se Itna Ashiqana Thik Nahin Hai Janab,
Kisi Ke Dil Ke Par Hue To Ilzaam Katal Ka Lagega.

लफ्जों से इतना आशिकाना ठीक नहीं है ज़नाब,
किसी के दिल के पार हुए तो इल्जाम क़त्ल का लगेगा।

-Advertisement-

Ilzaam Laga Hai

Ilzaam Shayari - Ilzaam Laga Hai

Udas Zindagi, Udas Waqt, Udas Mousam,
Kitni Cheejon Pe Ilzaam Laga Hai Tere Na Hone Se.

उदास जिन्दगी, उदास वक्त, उदास मौसम,
कितनी चीजो पे इल्जाम लगा है तेरे ना होने से।

-Advertisement-

Ye Milabat Ka Daur

Ye Milabat Ka Daur Hai "Sahab" Yahan,
Ilzaam Lagaye Jate Hain Tareefon Ke Libas Me.

ये मिलावट का दौर हैं  "साहब"  यहाँ,
इल्जाम लगायें जाते हैं तारिफों के लिबास में।