Insaniyat Shayari

Insaan Bana Dala

Humari Aarjuon Ne Hume Insaan Bana Dala,
Varna Jab Jahan Me Aaye The Bande The Khuda Ke.

हमारी आरजूओं ने हमें इंसान बना डाला,
वर्ना जब जहाँ में आये थे बन्दे थे खुदा के।

Insaan Bana Dala - Insaniyat Shayari Hindi

Read more →

-Advertisement-

Yehan Libaas Ki Keemat

Yehan Libaas Ki Keemat Hai Aadmi Ki Nahi,
Mujhe Gilaas Bade De Sharaab Kam Kar De.

यहाँ लिबास की क़ीमत है आदमी की नहीं,
मुझे गिलास बड़े दे शराब कम कर दे।

Meri Jubaan Ke Mausam Badalte Rahte Hain,
Main To Aadmi Hun Mera Aitbaar Mat Karna.

मेरी जबान के मौसम बदलते रहते हैं,
मैं तो आदमी हूँ मेरा ऐतबार मत करना।

Read more →

Insaan Kahan Milta

Dhoondhne Se To Bashar Ko Khuda Bhi Milta Hai
Khuda Agar Dhoonde To Insaan Kahan Milta Hai.

ढूंढ़ने से तो बशर को खुदा भी मिलता है
खुदा अगर ढूंढे तो इंसान कहाँ मिलता है।

Insaan Kahan Milta Hai - New Insaniyat Shayari Hindi

Read more →

-Advertisement-

Zameer Jag Hi Jaata Hai

Zameer Jag Hi Jaata Hai Agar Zinda Ho Iqbal,
Kabhi Gunaah Se Pehle To Kabhi Gunaah Ke Baad.

ज़मीर जाग ही जाता है अगर ज़िन्दा हो इक़बाल,
कभी गुनाह से पहले तो कभी गुनाह के बाद।

Insaniyat To Maine Aaj Blod Bank Me Dekhi Thi,
Khoon Ki Botlon Par Majhab Likha Nahi Hota.

इंसानियत तो मैंने आज ब्लड बैंक में देखी थी,
खून की बोतलों पर मजहब लिखा नही होता।

Read more →

-Advertisement-

Insaan Hi Nahin Milta

Khuda To Milta Hai Par Insaan Hi Nahin Milta,
Ye Cheez Wo Hai Jo Dekhi Kahin Kahin Maine.

खुदा तो मिलता है पर इंसान ही नहीं मिलता,
ये चीज़ वो है जो देखी कहीं कहीं मैंने।

Innsaan Hi Nahi Milta - Insaniyat Shayari

Read more →

12