Intezar Shayari

हेल्लो दोस्तो ! इंतज़ार शायरी किसी के इंतज़ार पर कविता है, आमतौर पर प्रेमिका और प्रेमी इंतज़ार शायरी हिंदी में खोज करते हैं। प्यार के लिए उदास इन्तेज़ार शायरी विशेष रूप से मांग है हमारी वेबसाइट इंतज़ार शायरी का एक बेहतरीन संग्रह है। यहाँ आपके लिए हिंदी भाषा में दो लाइनों इंतज़ार शायरी, चार लाइन इंतज़ार शायरी, फ़ेसबुक के लिए इंतज़ार शायरी और हिंदी भाषा में इंतज़ार शायरी जैसे समूह शामिल हैं। यहाँ से आप दोस्तों और प्रेमी-प्रेमियों के साथ साझा करने के लिए चित्रों और वॉलपेपर के बीच इंतज़ार शायरी के सरल और शांत संग्रह, फेसबुक और व्हाट्सएप पर भी साझा करें। जब कोई समय पर नहीं आता है। तो आपको उनके लिए हिंदी में इंतज़ार शायरी का इस्तेमाल करना चाहिए। इंतज़ार हिंदी शायरी, हिंदी शायरी, इंतज़ार, इंतज़ार स्टेटस, इंतज़ार व्हाट्स अप स्टेटस, इंतज़ार पर शायरी, इंतज़ार शायरी, इंतज़ार पर शेर, इंतज़ार की शायरी इंतज़ार दो लाइन शायरी, इंतज़ार चार लाइन शायरी, हार्ट टचिंग इंतज़ार शायरी।waiting a girl

इन्तजार शायरी का आमतौर पर प्रेमियों द्वारा उपयोग किया जाता है। जब भी आपको किसी का इंतज़ार हो तब आप हमारी वेबसाइट पर इंतज़ार शायरी का बेहतरीन संग्रह पड़ सकते हैं, व अपने दोस्त, प्रेमी-प्रेमिका, पति-पत्नी के साथ साझा कर सकते हैं। धन्यबाद दोस्तों!

Shart Hawaon Se Laga Rakhi

Humne Ye Shaam Chirago Se Saja Rakhi Hai,
Aapke Intezar Me Palke Bichha Rakhi Hain,
Hawa Takra Rahi Hai Shama Se Baar Baar,
Aur Humne Shart In Hawaon Se Laga Rakhi Hai.

हमने ये शाम चिरागों से सजा रखी है,
आपके इंतजार में पलके बिछा रखी हैं,
हवा टकरा रही है शमा से बार-बार,
और हमने शर्त इन हवाओं से लगा रखी है।

Shart Hawaon Se Laga Rakhi Hai - Intezaar Shayari Hindi

Wo Rukhsat Hui To Aankh Mila Kar Gayi,
Wo Kyun Gai Yeh Bata Kar Nahin Gayi,
Lagta Hai Bapis Abhi Laut Aayegi,
Wo Jaate Hue Chirag Bujha Kar Nahin Gayi,

वो रुख्सत हुई तो आँख मिलाकर नहीं गई,
वो क्यों गई यह बताकर नहीं गई,
लगता है वापिस अभी लौट आएगी,
वो जाते हुए चिराग़ बुझाकर नहीं गई।

-Advertisement-

Ajab Si Bechaini Jagi Hai

Tere Intezar Me Yeh Najren Jhuki Hain,
Tera Didaar Karne Ki Chaah Jagi Hai,
Na Jaanu Tera Naam, Na Tera Pata,
Fir Bhi Na Jaane Kyun Is Pagal Dil Me,
Ek Ajab Si Bechaini Jagi Hai.

तेरे इंतज़ार में यह नज़रें झुकी हैं,
तेरा दीदार करने की चाह जगी है,
न जानूँ तेरा नाम, न तेरा पता,
फिर भी न जाने क्यों इस पागल दिल में,
एक अज़ब सी बेचैनी जगी है।

Intezar Ki Tadap

Tadap Kar Dekho Kisi Ki Chahat Me,
Pata Chalega Intezar Kya Hota Hai,
Yun Hi Mil Jata Bina Koi Tadpe To,
Kaise Pata Chalta Ki Pyar Kya Hota Hai.

तड़प कर देखो किसी की चाहत में,
पता चलेगा इंतज़ार क्या होता है,
यूँ ही मिल जाता बिना कोई तड़पे तो,
कैसे पता चलता कि प्यार क्या होता है।

Tadapti Hai Aaj Bhi Rooh Aadhi Raat Ko,
Nikal Padte Hain Aankh Se Aansu Aadhi Raat Ko,
Intezar Me Tere Barsho Beet Gaye Sanam Mere,
Dil Ko Hai Aas Ayegi Tu Aadhi Raat Ko.

तड़पती है आज भी रूह आधी रात को,
निकल पड़ते हैं आँख से आँसू आधी रात को,
इंतज़ार में तेरे वर्षों बीत गए सनम मेरे,
दिल को है आस आएगी तू आधी रात को।

-Advertisement-

Dil Ki Betabi

Intezar Shayari - Dil Ki Betabi

Bhale Hi Raah Chalton Ka Daman Tham Le,
Magar Mere Pyar Ko Bhi Tu Pahchaan Le,
Kitna Intezar Kiya Hai Tere Intezar Me,
Jara Yeh Dil Ki Betabi Tu Bhi Jaan Le,

भले ही राह चलतों का दामन थाम ले,
मगर मेरे प्यार को भी तू पहचान ले,
कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में,
ज़रा यह दिल की बेताबी तू भी जान ले।

-Advertisement-

Kitna Intezar Hai

Khud Ek Baar Use Ehsaas Dila De,
Kitna Intezar Hai Jara Use Bata De,
Har Pal Dekhte Hain Rasta Usi Ka,
Na Intezar Karna Pade, Mujhe Aisi Neend Sula De.

खुद एक बार उसे यह एहसास दिला दे,
कितना इंतज़ार है ज़रा उसे बता दे,
हर पल देखते हैं रास्ता उसी का,
ना इंतज़ार करना पड़े, मुझे ऐसी नींद सुला दे।

1234...»