Khwab Shayari

Khwabo Me Ho

Suno Meri Jaan Tumhara Hath Pakadkar Ghumne Ka,
Dil Karta Hai, Chahe Wo Khwabo Me Ho Ya Hakiqat Me.

सुनो मेरी जान तुम्हारा हाथ पकड़कर घूमने का,
दिल करता है, चाहे वो ख़्वाबों में हो या हक़ीक़त में।

-Advertisement-

Khwab Jitne Bhi

Khwab Jitne Bhi The Jal Gaye Saare,
Ab In Ankhon Me Nami Ke Siwa Kuch Nahi.

ख़्वाब जितने भी थे जल गए सारे,
अब इन आँखों में नमी के सिवा कुछ भी नही।

Na Khwab Muqammal Hue

Bas Yehi Do Masle
Zindagi Bhar Na Hal Huye,
Na Neend Puri Hui
Na Khwab Muqammal Hue.

बस यही दो मसले
ज़िन्दगी भर न हल हुए,
ना नींद पूरी हुई
न ख्वाब मुकम्मल हुए।

-Advertisement-

Khuda Ne Khwab Bana Diye

Khuda Ka Shukr Hai Ke Usne Khwab Bana Diye,
Varna Tumhe Dekhne Ki To Hasrat Rah Hi Jati.

खुदा का सुक्र है कि उसने ख्वाब बना दिए,
वरना तुम्हें देखने की तो हसरत रह ही जाती।

-Advertisement-

Manzilon Ka Khwab

Mujhko Dikha Raha Tha Jo Manzilon Ka Khwab,
Fir Mere Saamne Se Wo Rasta Chala Gaya.

मुझको दिखा रहा था जो मंजिलो का ख्वाब,
फिर मेरे सामने से वो रास्ता चला गया।

123