Maa Shayari

Zindagi Ke Har Pahlu Me Maa

Maa Shayari - Zindagi Ke Har Pahlu Me Maa

Khushi Me Maa, Gham Me Maa,
Zindagi Ke Har Pahlu Me Maa,
Dard Ko Bhaap Le, Aansuon Ko Naap Le,
Zindagi Ke Har Kadam Par,
Mushkilo Ko Dhaak Le,
God Me Sulakar Jab Apni Ek Thaap De,
Duniya Swarg Lage, Maa Neend Me Bhi Jhaak Le,
Jab Bhi Tujhse Door Jaaun, Maa Dar Se Kaap Le,
Chot Jab Mujhko Lage,
Maa Dooriyon Se Maap Le,
Maa Bas Maa Ek Hi Naam
Har Kadam Par Jaap Le.....

खुशी में माँ, ग़म में माँ,
ज़िन्दगी के हर पहलू में माँ,
दर्द को भाप ले, आंसुओं को नाप ले,
ज़िन्दगी के हर कदम पर,
मुश्किलों को ढाक ले,
गोद में सुलाकर जब अपनी एक थाप दे,
दुनिया स्वर्ग लगे, माँ नींद में भी झांक ले,
जब भी तुझसे दूर जाऊं, माँ डर से कांप ले,
चोट जब मुझको लगे,
माँ दूरियों से माप ले,
माँ बस माँ एक ही नाम
हर कदम पर जाप ले.....

-Advertisement-

Ye Aisa Karz Hai

Ye Aisa Karz Hai Jise Main Adaa Kar Hi Nahi Sakta,
Main Jab Tak Ghar Na Aa Jaun Maa Sajde Mein Rehti Hai.

ये कैसा क़र्ज़ है जिसे मैं अदा कर ही नहीं सकता,
मैं जब तक घर न आ जाऊं माँ सजदे में रहती है।

Maa Ki Duaaon

Maa Shayari - Maa Ki Duaaon

Sakht Raahon Mein Bhi Aasaan Safar Lagta Hai,
Yeh Meri Maa Ki Duaaon Ka Asar Lagta Hai.

सख्त राहों में भी आसान सफ़र लगता है,
ये मेरी माँ की दुआओं का असर लगता है।

-Advertisement-

Maa Anparh Hai

Gin Leti Hai Din Bagair Mere Gujare Hain Kitne,
Bhala Kaise Kah Doon Ki Maa Anparh Hai Meri.

गिन लेती है दिन बगैर मेरे गुजारें हैं कितने,
भला कैसे कह दूं कि माँ अनपढ़ है मेरी।

-Advertisement-

Aasman Ko Chhuaa

Maa Shayari -  Aasman Ko Chhuaa

Yun To Maine Bulandiyon Ke Har Nishaan Ko Chhuaa,
Jab Maa Ne God Mein Uthaya To Aasman Ko Chhuaa.

यूँ तो मैंने बुलन्दियों के हर निशान को छुआ,
जब माँ ने गोद में उठाया तो आसमान को छुआ।

1234...»