Majboori Shayari

Dariya Ke Kinaro Ki Tarah

Zakhm Sab Bhar Gaye Bas Ek Chubhan Baki Hai,
Haath Me Tere Bhi Patthar Tha Hajaron Ki Tarah,
Paas Rehkar Bhi Kabhi Ek Nahi Ho Sakte,
Kitne Majboor Hain Dariya Ke Kinaro Ki Tarah.

ज़ख्म सब भर गए बस एक चुभन बाकी है,
हाथ में तेरे भी पत्थर था हजारो की तरह,
पास रहकर भी कभी एक नहीं हो सके,
कितने मजबूर हैं दरिया के किनारों की तरह।

-Advertisement-

Majboorion Ka Ek Paigaam

Tum Bewafa Nahi Ye To Dadhkane Bhi Kehti Hain,
Apni Majboorion Ka Ek Paigaam To Bhej Dete.

तुम बेवफा नहीं ये तो धड़कने भी कहती हैं,
अपनी मजबूरी का एक पैगाम तो भेज देते।

Jab Koi Juda Hota Hai

Majboori Me Jab Koi Juda Hota Hai,
Zaruri Nahi Ke Wo Bewafa Hota Hai,
De Kar Wo Aapki Aankho Me Aansu,
Akele Me Aapse Bhi Zyada Rota Hai.

मजबूरी में जब जुदा होता है,
ज़रूरी नहीं के वो बेवफा होता है,
दे कर वो आपकी आँखों में आँसू,
अकेले में आपसे भी ज्यादा रोता है।

-Advertisement-

Ye Na Samajh Ke

Ye Na Samajh Ke Main Bhul Gaya Hun Tujhe,
Teri Khushbu Meri Saanson Me Aaj Bhi Hai,
Majburion Ne Nibhane Na Di Mohabbat,
Sachchai To Meri Wafa Me Aaj Bhi Hai.

ये न समझ के मैं भूल गया हूँ तुझे,
तेरी खुशबू मेरी सांसो में आज भी है,
मजबूरी ने निभाने न दी मोहब्बत ,
सच्चाई तो मेरी वफ़ा में आज भी है।

-Advertisement-

Majburi-E-Hayat

Shayad Isi Ko Kehte Hain Majburi-E-Hayat,
Ruk Si Gayi Hai Umr-e-Gurejan Tere Bagair.

शायद इसी को कहते हैं मजबूरी-ए-हयात,
रुक सी गयी है उम्र-ए-गुरेजन तेरे बगैर।

12