Takdeer Shayari

Chand Ka Kya Kasoor

Chand Ka Kya Kasoor Agar Raat Bewafa Nikli,
Kuch Pal Thhari Aur Fir Chal Nikli,
Un Se Kya Kahen Wo To Sacche The,
Shayad Hamari Takdeer Hi Hmse Khafa Nikli.

चाँद का क्या कसूर अगर रात बेवफा निकली,
कुछ पल ठहरी और फिर चल निकली,
उन से क्या कहे वो तो सच्चे थे,
शायद हमारी तकदीर ही हमसे खफा निकली।

-Advertisement-

Taqdir Likhne Wale

Taqdir Likhne Wale Ek Ehsaan Karde,
Mere Dost Ki Taqdir Mai Ek Aur Muskan Likh De,
Na Mile Kabi Dard Unko,
Tu Chahe To Uski Kismat Mai Meri Jaan Likh De.

तक़दीर लिखने वाले एक एहसान करदे,
मेरे दोस्त की तक़दीर मैं एक और मुस्कान लिख दे,
न मिले कभी दर्द उनको,
तू चाहे तो उसकी किस्मत मैं मेरी जान लिख दे.

Baat Mukaddar Pe

Baat Mukaddar Pe Aa Ke Ruki Hai Varna,
Koi Kasar To Na Chhodi Thi Tujhe Chahne Me.

बात मुकद्दर पे आ के रुकी है वरना,
कोई कसर तो न छोड़ी थी तुझे चाहने में।

-Advertisement-

Naseeb Ko Manjoor Nahi

Agar Yakeen Hota Ki Kehne Se Ruk Jaayenge,
To Hum Bhi Hanskar Unko Pukaar Lete,
Magar Naseeb Ko Mere Ye Manjoor Nahi Tha,
Ke Hum Bhi Do Pal Khushi Se Gujar Lete.

अगर यकीन होता की कहने से रुक जायेंगे,
तो हम भी हँसकर उनको पुकार लेते,
मगर नसीब को मेरे ये मंजूर नहीं था,
के हम भी दो पल खुशी से गुजार लेते।

-Advertisement-

Kuchh Kashtiya Doob Bhi

Jaruri To Nahi Jeene Ke Liye Sahara Ho,
Jaruri To Nahi Hum Jiske Hain Wo Humara Ho,
Kuchh Kashtiya Doob Bhi Jaya Karti Hai,
Jaruri To Nahi Har Kashti Ka Kinara Ho.

जरुरी तो नहीं जीने के लिए सहारा हो,
जरुरी तो नहीं हम जिसके हैं वो हमारा हो,
कुछ कश्तियाँ डूब भी जाया करती है,
जरुरी तो नहीं हर कश्ती का किनारा हो।

123