1. Home
  2. Shayari
  3. Alone Shayari

Alone Shayari

Koi To Inteha Hogi

Koi To Inteha Hogi Mere Pyar Ki Khuda,
Kab Tak Dega Tu Iss Kadar Hame Saza,
Nikaal Le Tu Iss Jism Se Jaan Meri,
Ya Mila De Mujh Ko Meri Dilruba.

कोई तो इन्तहा होगी मेरे प्यार की खुदा,
कब तक देगा तू इस कदर हमें सजा,
निकाल ले तू इस जिस्म से जान मेरी,
या मिला दे मुझ को मेरी दिलरुबा।

Koi To Inteha Hogi - Loneliness Shayari

-Advertisement-

Wo Silsile Wo Shauk

Wo Silsile Wo Shauk Wo Gurbat Na Rahi,
Fir Yun Hua Ke Dard Me Shiddat Na Rahi,
Apni Zindagi Me Ho Gaye Masroof Wo Itna,
Ki Hum Ko Yaad Karne Ki Fursat Na Rahi.

वो सिलसिले वो शौक वो ग़ुरबत न रही,
फिर यूँ हुआ के दर्द में सिद्दत न रही,
अपनी जिंदगी में हो गये मशरूफ वो इतना,
कि हमको याद करने कि फुरसत न रही।

Akelepan Se Darr Nahi

Zindagi Ke Zehar Ko Yu Has Ke Pi Rahe Hai,
Tere Pyar Bina Yu Hi Zindagi Jee Rahe Hai,
Akelepan Se To Ab Darr Nahi Lagta Hamein,
Tere Jaane Ke Baad Yu Hi Tanha Jee Rahe Hai.

जिंदगी के ज़हर को यूँ हँस के पी रहे हैं,
तेरे प्यार बिना यूँ ही ज़िन्दगी जी रहे हैं,
अकेलेपन से तो अब डर नहीं लगता हमें,
तेरे जाने के बाद यूँ ही तन्हा जी रहे हैं।

-Advertisement-

Na Jaane Ja Chhupa

Aankho Ne Zarre Zarre Par Sajade Lutaye Hain,
Na Jaane Ja Chhupa Hai Mera Parda-nashin Kahan.

आँखों ने ज़र्रे ज़र्रे पर सजदे लुटाये हैं,
न जाने जा छुपा है मेरा पर्दा-नसीन कहाँ।

-Advertisement-

Ajeeb Si Betaabi

Ajeeb Si Betaabi Rehti Hai Tere Bina,
Reh Bhi Lete Hain Aur Raha Bhi Nahi Jata.

अजीब सी वेताबी रहती है तेरे बिना,
रह भी लेते हैं और रहा भी नहीं जाता।

ajeeb si betabi - alone shayari

Prev1234