1. Home
  2. Shayari
  3. Deshbhakti Shayari
  4. Page-3

Deshbhakti Shayari

Watan Ki Sar Bulandi

Watan Ki Sar Bulandi Me, Humara Naam Ho Shamil,
Guzarte Rehna Hai Humko, Sada Aise Mukamo Se.

वतन की सर बुलंदी में, हमारा नाम हो शामिल,
गुजरते रहना है हमको, सदा ऐसे मुकामो से।

Deshbakti Shayari - Watan Ki Sar Bulandi

-Advertisement-

Unki Shahadat Ka Karz

Unke Housle Ka Bhugtaan Kya Karega Koi,
Unki Shahadat Ka Karz Desh Par Udhar Hai,
Aap Aur Ham Is Liye Khushhaal Hain Kyunki,
Seema Pe Sainik Shahadat Ko Taiyar Hai.

उनके हौसले का भुगतान क्या करेगा कोई,
उनकी शहादत का क़र्ज़ देश पर उधार है,
आप और हम इस लिए खुशहाल हैं क्योंकि,
सीमा पे सैनिक शहादत को तैयार हैं।

Tiranga Kafan Chahiye

Mujhe Tan Chahiye Na Dhan Chahiye,
Bas Aman Se Bhara Ye Watan Chahiye,
Jab Tak Zinda Rahun Iss MatrBhumi Ke Liye,
Aur Jab Maru To Tiranga Kafan Chahiye.

मुझे तन चाहिए न धन चाहिए,
बस अमन से भरा ये वतन चाहिए,
जब तक जिंदा रहूँ इस मात्रभूमि के लिए,
और जब मरू तो तिरंगा कफ़न चाहिए।

-Advertisement-

Kabhi Watan Ko

Ishq To Karta Hai Har Koyi,
Mehboob Pe Marta Hai Har Koyi,
Kabhi Watan Ko Mehboob Bana Kar Dekho,
Fir Tujh Pe Marega Har Koyi.

इश्क तो करता है हर कोई,
महबूब पर मरता है हर कोई,
कभी वतन को महबूब बना कर देखो,
फिर तुझ पर मरेगा हर कोई।

-Advertisement-

Aajadi Ki Shaam Nahi

Aajadi Ki Kabhi Shaam Nahi Hone Denge,
Sahidon Ki Kurbani Badnaam Nahi Hone Denge,
Bachi Ho Jo Ek Boond Bhi Lahu Ki Tab Tak
Bharat Mata Ka Aanchal Nilaam Nahi Hane Denge.

आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे,
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे,
बची हो जो एक बूँद भी लहू की तब तक,
भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे।

Aajadi Ki Shaam - Deshbhakti Shayari