1. Home
  2. Shayari
  3. Gila-Shiqwa Shayari

Gila-Shiqwa Shayari

Takdeer Ke Likhe Par

Takdeer Ke Likhe Par Kabhi Shikwa Na Kiya Kar Ai Insaan,
Tu Itna Akalmand Nahin Jo Bhagwaan Ke Irade Samajh Sake,

तक़दीर के लिखे पर कभी शिक़वा न किया कर ऐ इंसान,
तू इतना अक़्लमंद नहीं जो भगवान के इरादे समझ सके।

Shikwa To Bahut Hai Magar Shikayat Nahi Kar Sakte,
Mere Hontho Ko Izazat Nahi Tere Khilaf Bolne Ki.

शिकवा तो बहुत है मगर शिकायत नहीं कर सकते,
मेरे होठों को इजाजत नहीं तेरे खिलाफ बोलने की।

-Advertisement-

Jab Gila Shikwa

Jab Gila Shikwa Apno Se Hi Ho To Khamoshi Bhali,
Ab Har Baat Par Jang Ho Jaruri To Nahin.

जब गिला शिकवा अपनों से हो तो खामोशी ही भली,
अब हर बात पे जंग हो यह जरूरी तो नहीं।

Koi Charag Jalata Nahin

Koi Charag Jalata Nahin Saleeke Se,
Magar Sabhi Ko Shikwa Hawa Se Hota Hai.

कोई चराग़ जलाता नहीं सलीक़े से,
मगर सभी को शिकवा हवा से होती है।

-Advertisement-

Koi Gila Koi Shikwa

Koi Gila Koi Shikwa Na Rahe Aap Se,
Ye Aarzoo Hai Ik Sil Sila Bana Rahe Aap Se,
Bas Ik Baat Ki Ummid Hai Aap Se,
Dil Se Door Na Karna Agar Door Bhi Rahen Aap Se.

कोई गिला कोई शिकवा न रहे आप से,
ये आरज़ू है इक सिल सिला बना रहे आप से,
बस इक बात की उम्मीद है आप से,
दिल से दूर न करना अगर दूर भी रहें आप से।

-Advertisement-

Zindagi Ki Kitab Se

Na Gila Hai Koi Halat Se, Na Shikayatien Kisi Ki Zat Se....
Khud He Sare Lafz Juda Ho Rahy Hain Meri Zindagi Ki Kitab Se.

न गिला है कोई हालात से, न शिकायेतें किसी की जात से...
खुद से सारे लफ्ज जुदा हो रहे हैं मेरी ज़िन्दगी की किताब से।