1. Home
  2. Shayari
  3. Intekam Shayari

Intekam Shayari

Mujhse Intekaam Le Le

Tu Jaise Chahe Mujhse Intekaam Le Le,
Bus Ek Baar Aaja Fir Chahe Jaan Le Le.

तू जैसे चाहे मुझसे इन्तेकाम ले ले,
बस एक बार आजा फिर चाहे जान ले ले।

Ham Ne To Khud Se Intikaam Liya,
Tum Ne Kya Soch Kar Mohabbat Ki.

हम ने तो ख़ुद से इंतिक़ाम लिया,
तुम ने क्या सोच कर मोहब्बत की।

Read more →

-Advertisement-

Zakhm Bahut Diye

Zakhm Bahut Diye Hain Usne
Mere Dil e Naadan Ko,
Zakhm Hum Bhi De Dete Par
Hume Intekam Achha Nahi Lagta.

जख्म बहुत दिए हैं उसने
मेरे दिल ए नादान को,
ज़ख्म हम भी दे देते पर
हमे इन्तेक़ाम अच्छा नहीं लगता।

Read more →

Mudda Intekam Se

Koi TumSa Bhi Kaash Tum Ko Mile,
Mudda Hum Ko Intekam Se Hai.

कोई तुमसा भी काश तुम को मिले,
मुद्दा हम को इन्तेक़ाम से है।
 
Main Zakhm Kha Ke Gira Tha Ki Tham Us Ne Liya,
Maaf Kar Ke Mujhe Intikaam Us Ne Liya.

मैं ज़ख़्म खा के गिरा था कि थाम उस ने लिया
माफ़ कर के मुझे इंतिक़ाम उस ने लिया।

Read more →

-Advertisement-

Ishq Se Intekam Liya

Kal Kya Khoob Ishq Se Intekam Liya Maine,
Kagaz Par Likha Ishq Aur Use Jala Diya.

कल क्या खूब इश्क़ से इन्तेक़ाम लिया मैंने,
कागज़ पर लिखा इश्क़ और उसे जला दिया।

Khud Apne Aap Se Lena Tha Intikaam Mujhe,
Main Apne Haath Ke Patthar Se Sangasaar Hua.

ख़ुद अपने आप से लेना था इंतिक़ाम मुझे,
मैं अपने हाथ के पत्थर से संगसार हुआ।

-Advertisement-