1. Home
  2. Shayari
  3. Jazbat Shayari

Jazbat Shayari

Kabhi Dil Se

Kuch Umda Kism Ke Jazbaat Hain Humare,
Kabhi Dil Se Samajhne Ki Takalluf To Kijiye.

कुछ उम्दा किस्म के जज़्बात हैं हमारे,
कभी दिल से समझने की तकलुफ़्फ़् तो कीजिए।

-Advertisement-

Dikhabe Ki Mohabbat

Dikhabe Ki Mohabbat To Jamane Ko Hai Hamse,Par
Ye Dil To Bahan Bikega Jahan Jazbaton Ki Kadar Hogi.

दिखावे की मोहब्बत तो जमाने को हैं हमसे,पर
ये दिल तो वहाँ बिकेगा जहाँ ज़ज्बातो की कदर होगी।

Dil-E-Jazbaat

Dil-E-Jazbaat Kisi Par Jahir Mat Kar,
Apne Aapko Ishq Me, Itna Mahir Mat Kar.

दिल -ए -ज़ज़्बात किसी पर, ज़ाहिर मत कर,
अपने आपको इश्क़ में, इतना माहिर मत कर।

-Advertisement-

Baat Jazbaton Ki

Itna Aasan Nahin Jeevan Ka Kirdar Nibha Pana,
Insaan Ko Bikharna Padta Hai Risto Ko Sametne Ke Liye,
Baat Sirf Jazbaton Ki Hai Varna,
Mohabbat To Saat Fhero Ke Baad Bhi Nahin Hoti.

इतना आसान नही जीवन का किरदार निभा पाना,
इंसान को बिखरना पड़ता है रिश्तो को समेटने के लिए।
बात तो सिर्फ जज़्बातों की है वरना,
मोहब्बत तो सात फेरों के बाद भी नहीं होती।

Dil Se Mile Dil To Saja Dete Hain Log,
Pyar Ke Jazbaton Ko Duba Dete Hain Log,
Do Insano Ko Milte Kaise Dekh Sakte Hain Log,
Jab Sath Baithe Do Parindon Ko Bhi Uda Dete Hain Log.

दिल से मिले दिल तो सजा देते है लोग,
प्यार के जजबातो को डुबा देते है लोग,
दो इंसानों को मिलते कैसे देख सकते है लोग,
जब साथ बैठे दो परिन्दो को भी उड़ा देते है लोग।

-Advertisement-

Na Kahte To Accha Tha

Kai Bar Ham Jajbaton Me Aa Ke Kuch Kah To Dete Hain,
Par Fir Khayal Aata Hai Na Kahte To Accha Tha.

कई बार हम जज्बातों में आके कुछ कह तो देते है,
पर फिर ख्याल आता है ना कहते तो अच्छा था।

Prev12