1. Home
  2. Shayari
  3. Mausam Shayari

Mausam Shayari

Sard Mousam

Sard Mausam Me Bahut Yaad Aate Hain,
Dhundh Me Lipte Hue Vaade Tere...

सर्द मौसम में बहुत याद आते हैं,
धुँध में लिपटे हुए वादे तेरे... ।

-Advertisement-

Mausam Suhana Ho Gaya

Manjar Bhi Benoor The
Aur Fizayein Bhi Berang Thi,
Tumhari Yaad Aayi Aur
Mausam Suhana Ho Gaya.

मंजर भी बेनूर थे
और फिजायें भी बेरंग थी,
तुम्हारी याद आयी और
मौसम सुहाना हो गया।

Kisi Ka Yun Badal Jana

Tabdeeli Jab Bhi Aati Hai
Mausam Ki Adaaon Me,
Kisi Ka Yun Badal Jana
Bahut Hi Yaad Aata Hai.

तब्दीली जब आती है
मौसम की अदाओं में,
किसी का यूँ बदल जाना
बहुत ही याद आता है।

-Advertisement-

Mausam Se Bachaye Rakhna

Apne Kirdaar Ko Mausam Se Bachaye Rakhna,
Laut Kar Phoolo Me Wapas Nahi Aati Khushbu.

अपने किरदार को मौसम से बचाए रखना,
लौट कर फूलो में वापस नहीं आती खुशबू।

-Advertisement-

Purana Mausam Lauta

Ek Purana Mausam Lauta Yaad Bhari Purvai Bhi,
Aisa To Kam Hi Hota Hai Wo Bhi Ho Tanhayi Bhi.

एक पुराना मौसम लौटा याद भरी पुरबाई भी,
ऐसा तो कम ही होता है वो भी हो तन्हाई भी।

Prev12