1. Home
  2. Shayari
  3. Mehfil Shayari

Mehfil Shayari

Mahfile Khud Hi Sajate

Kmaal Karte Hain Humse Jalan Rakhne Wale,
Mahfile Khud Ki Sajate Hain Aur Charche Humare Karte Hain.

कमाल करते हैं हमसे जलन रखने वाले,
महफ़िलें खुद की सजाते हैं और चर्चे हमारे करते हैं।

Read more →

-Advertisement-

Meri Mehfil Me

Fursat Nikal Kar Aao Kabhi Meri Mehfil Me,
LautTe Waqt Dil Nahin Paoge Apne Seene Me.

फुर्सत निकाल कर आओ कभी मेरी महफ़िल में,
लौटते वक्त दिल नहीं पाओगे अपने सीने में...!

Intezaar Ki Aarzoo Ab Kho Gayi Hai,
Khamoshiyon Ki Aadat Ho Gayi Hai,
Na Shikwa Raha Na Shikayat Kisi Se,
Agar Hai To Ek Mohabbat,
Jo In Tanhaiyon Se Ho Gayi Hai.

इंतज़ार की आरज़ू अब खो गयी है,
खामोशियो की आदत हो गयी है,
न शिकवा रहा न शिकायत किसी से,
अगर है तो एक मोहब्बत,
जो इन तन्हाइयों से हो गई है।

Dekhi Hain Kai Mahfil

Sajti Rahe Khushiyon Ki Mahfil,
Har Mahfil Khushi Se Suhani Bani Rahe,
Aap Zindagi Me Itne Khush Rahen Ki,
Khushi Bhi Aapki Deewani Bani Rahe.

सजती रहे खुशियों की महफ़िल,
हर महफ़िल ख़ुशी से सुहानी बनी रहे,
आप ज़िंदगी में इतने खुश रहें कि,
ख़ुशी भी आपकी दीवानी बनी रहे

Read more →

-Advertisement-

Shareek-e-Bazm Hokar

Shareek-e-Bazm Hokar Yun Uchatkar Baithhna Tera,
Khatakti Hai Teri Maujoodgi Me Bhi Kami Apni.

शरीक-ए-बज़्म होकर यूँ उचटकर बैठना तेरा,
खटकती है तेरी मौजूदगी में भी कमी अपनी।

-Advertisement-

Bazm Me Baithe Ho

Zikr Uss Ka Hi Sahi Bazm Me Baithe Ho Faraz,
Dard Kaisa Bhi Uthe Haath Na Dil Par Rakhna.

जिक्र उस का ही सही बज़्म में बैठे हो फ़राज़,
दर्द कैसा भी उठे हाथ न दिल पर रखना।

Prev1234