1. Home
  2. Shayari
  3. Deshbhakti Shayari
  4. Main Aman Pasand Hoon

Main Aman Pasand Hoon

Mera Yehi Andaaz Zamaane Ko Khalta Hai,
Ki Chirag Hawa Ke Khilaf Kyun Jalta Hai,
Main Aman Pasand Hoon,
Mere Shahar Mein Danga Rehne Do,
Laal Aur Hare Mein Mat Baanto,
Meri Chhat Par Tiranga Rehne Do.

मेरा यही अंदाज ज़माने को खलता है,
कि चिराग हवा के खिलाफ क्यों जलता है,
मैं अमन पसंद हूँ,
मेरे शहर में दंगा रहने दो,
लाल और हरे में मत बांटो,
मेरी छत पर तिरंगा रहने दो।

Main Aman Pasand Hun - Deshbakti Shayari

-Advertisement-

-Advertisement-

You may also like