1. Home
  2. Shayari
  3. Rishte Shayari

Rishte Shayari

Relation Shayari, Toote Huye Rishte

Kuch Ruthe Huye Lamhe Kuch Toote Huye Rishte,
Har Kadam Par Kaanch Ban Ke Jakhm Dete Hain.

कुछ रूठे हुए लम्हें कुछ टूटे हुए रिश्ते,
हर कदम पर काँच बन कर जख्म देते हैं।

rishte shayari

Jahan Gunjaishen Hain Bahi Har Rishta Thhrta Hai,
Ajmaishen Aksar Rishte Tod Deti Hain.

जहां गुंज़ाइशें हैं वहीं हर रिश्ता ठहरता है,
आज़माइशें अक्सर रिश्ते तोड़ देती है।

Hosh Ka Paani Chhidko Madhosi Ki Aankhon Par,
Apno Se Kabhi Na Uljho Gairo Ki Baato Par.

होश का पानी छिड़को मदहोशी की आँखों पर,
अपनों से कभी ना उलझो गैरों की बातों पर।

-Advertisement-

Riste Muft Milte Hain

Kisne Kaha Riste Muft Milte Hain,
Muft To Hawa Bhi Nahin Milti,
Ek Saans Bhi Tab Aati Hai,
Jab Ek Saans Chhodi Jaati Hai.

किसने कहा रिश्ते मुफ्त मिलते हैं,
मुफ्त तो हवा भी नहीं मिलती,
एक साँस भी तब आती है,
जब एक साँस छोड़ी जाती है।

Darakhton Se Talluq Ka Hunar
Seekh Le Insaan,
Jadon Mein Zakhm Lagte Hain
Toh Tehniyan Sookh Jati Hain.

दरख्तों से ताल्लुक का हुनर
सीख ले इंसान,
जड़ों में ज़ख्म लगते हैं
तो टहनियाँ सूख जाती हैं।

Zindagi Badal Dete Hain

Kuch Rishte Zindagi Badal Dete Hain,
Mile Tab Bhi Na Mile Tab Bhi.

कुछ रिश्ते जिंदगी बदल देते है,
मिले तब भी ना मिले तब भी।

Rishte Nibhana Har Kisi Ke Bas Ki Baat Nahi,
Apna Dil Dukhana Padta Hai Kisi Aur Ki Khushi Ke Liye.

रिश्ते निभाना हर किसी के बस की बात नही,
अपना दिल दुखाना पड़ता है किसी और की खुशी के लिये।

-Advertisement-

Kuchh Rishte Umr Bhar

Kuchh Rishte Umr Bhar Agar
Benaam Rahe To Achchha Hai,
Aankho Aankho Me Hi Kuchh
Paigaam Rahe To Achchha Hai.

कुछ रिश्ते उम्र भर अगर
बेनाम रहें तो अच्छा है,
आँखों आँखों में ही कुछ
पैगाम रहे तो अच्छा है।

Aashayen Aisi Hon Jo Manjil Tak Le Jaayen,
Manjil Aisi Ho Jo Jeevan Jeena Sikha De,
Jeevan Aisa Ho Jo Rishton Ki Kadr Kare,
Aur Rishte Aise Hon Jo Yaad Karne Ko Majboor Kar De.

आशाएं ऐसी हों जो मंज़िल तक ले जाएं,
मंज़िल ऐसी हो जो जीवन जीना सिखा दे,
जीवन ऐसा हो जो रिश्तों की कदर करे,
और रिश्ते ऐसे हों जो याद करने को मज़बूर कर दें।

-Advertisement-

Ajeeb Ho Gaye Rishte

Bahut Ajeeb Ho Gaye Hain Ye Rishte Aaj Kal,
Sab Fursat Me Hain Par Waqt Kisi Ke Paas Nahi.

बहुत अजीब हो गए हैं ये रिस्ते आज कल,
सब फुरसत में हैं पर वक़्त किसी के पास नहीं।

Majboorion Se LadKar Rishton Ko Sameta Hai,
Kaun Kahta Hai Mujhe Rishte Nibhane Nahi Aate.

मजबूरियों से लड़कर रिश्तों को समेटा है,
कौन कहता है मुझे रिश्तें निभाने नहीं आते।

Sakht Hatho Se Bhi Chhoot Jaate Hain Hath,
Rishte Jor Se Nahi Tameej Se Thaame Jaate Hain.

सख़्त हाथों से भी छूट जाते हैं हाथ,
रिश्ते ज़ोर से नहीं तमीज़ से थामे जाते हैं।

Prev123