1. Home
  2. Shayari
  3. Aitbaar Shayari

Aitbaar Shayari

Aaj Bhi Aitbaar Karta Hun

Palat Ke Aayegi Wo, Main Intezar Karta Hun,
Kasam Khuda Ki, Use Ab Bhi Pyar Karta Hun,
Main Janta Hun Ki Ye Sab Dard Dete Hain Magar,
Main Apni Chahton Pe Aaj Bhi Aitbaar Karta Hun.

पलट के आयेगी वो, मैं इंतज़ार करता हूँ,
क़सम खुदा की, उसे अब भी प्यार करता हूँ,
मैं जानता हूँ कि ये सब दर्द देते हैं मगर,
मैं अपनी चाहतों पे आज भी ऐतबार करता हूँ।

-Advertisement-

Aitbaar Kar Lenge

Sukhi Patti Se Bhi Pyar Kar Lenge,
Hum Tum Par Aitbaar Kar Lenge,
Ek Baar Kah Do Tum Hamare Ho,
Hum Saari Zindagi Intezar Kar Lenge.

सूखी पत्ती से भी प्यार कर लेंगे,
हम तुम पर ऐतबार कर लेंगे,
एक बार कह दो तुम हमारे हो,
हम सारी ज़िंदगी इंतज़ार कर लेंगे।

Tujhe Yaad Karenge

Kayamat Tak Tujhe Yaad Karenge,
Teri Har Baat Par Aitbaar Karenge,
Tujhe Laut Ke Aane Ko To Nahin Kahenge,
Par Phir Bhi Tere Aane Ka Intezaar Karenge.

क़यामत तक तुझे याद करेंगे,
तेरी हर बात पर ऐतबार करेंगे,
तुझे लौट कर आने को तो नहीं कहेंगे,
पर फिर भी तेरे आने का इंतज़ार करेंगे।

-Advertisement-

Tumse Pyar Kare

Payar Use Karo Jo Tumse Pyar Kare,
Khud Se Bhi Jyada Tum Pe Aitbaar Hai,
Tum Bas Ek Baar Kaho Ki Ruko Do Pal,
Aur Wo Do Palo Ke Liye Puri Zindgi Intezar Kare.

प्यार उसे करो जो तुमसे प्यार करे,
खुद से भी ज्यादा तुम पे ऐतबार करे,
तुम बस एक बार कहो कि रुको दो पल,
और उन दो पलों के लिए पूरी जिंदगी इंतज़ार करे।

-Advertisement-

Main Aitbar Na Karta

Wo Keh Ke Gaya Tha Main Lautkar Aaunga,
Main Intezar Na Karta To Aur Kya Karta,
Wo Jhoothh Bhi Bol Raha Tha Bade Saleeke Se,
Main Aitbar Na Karta To Aur Kya Karta.

वो कह के गया था मैं लौटकर आऊंगा,
मैं इंतजार न करता तो और क्या करता,
वो झूट भी बोल रहा था बड़े सलीखे से,
मैं ऐतबार न करता तो और क्या करता।

Prev12