Apne Shayari

Kuch Apne Aise Nikle

Kuch Gair Aise Mile, Jo Mujhe Apna Bana Gaye,
Kuch Apne Aise Nikle, Jo Gair Ka Matlab Bata Gaye.

कुछ गैर ऐसे मिले, जो मुझे अपना बना गए,
कुछ अपने ऐसे निकले, जो गैर का मतलब बता गए।

Dard Humesha Apne Hi Dete Hain,
Warna Gairo Ko Kya Pata Ki,
Takleef Kis Baat Se Hai.

दर्द हमेशा अपने ही देते है,
वरना गैरो को क्या पता कि,
तकलीफ किस बात से होती है।

-Advertisement-

Apno Ko Aajmana

Takleefe To Hazaaro Hain Jamane Me,
Bus Koi Apna Najar Andaaz Kare To Bardast Nahin Hota.

तकलीफें तो हज़ारों हैं इस ज़माने में,
बस कोई अपना नज़र अंदाज़ करे तो बर्दाश्त नहीं होता।

Gairo Se Mohabbat Hone Lagi Hai Aaj Kal Mujhe,
Jaise Jaise Apno Ko Aajmata Ja Raha Hun.

गैरों से मुहब्बत होने लगी है आजकल मुझे,
जैसे जैसे अपनों को आजमाता जा रहा हूँ।

Jara Si Baat Par Barson Ke Yarane Gaye,
Magar Itna To Hua Kuch Log Pahchane Gaye.

जरा सी बात पर बरसों के याराने गए,
मगर इतना तो हुआ कि कुछ लोग पहचाने गए।

Apno Se Door Mat Hona

Apne Shayari - Apno Se Door Mat Hona

Mashoor Hona Par Magroor Na Hona,
Kamyabi Se Nashe Me Choor Na Hona,
Mil Jaye Saari Kaynaat Aapko Agar,
Iske Liye Kabhi Apno Se Door Mat Hona.

मशहूर होना पर मगरुर न होना,
कामयाबी से नशे मे चूर न होना,
मिल जाए सारी कायनात आपको अगर,
इसके लिए कभी अपनो से दूर मत होना।

-Advertisement-

Sab Apne Lagenge

Apne Aeham Ko Thoda-Sa Jhuka Ke Chaliye,
Sab Apne Lagenge Jara-Sa Muskura Ke Chaliye.

अपने अहम् को थोड़ा-सा झुका के चलिये,
सब अपने लगेंगे ज़रा-सा मुस्कुरा के चलिये।

-Advertisement-

Gair The Kaun

Gair The Kaun, Apne The Kaun, Hum Ye Samajh Na Paye,
Humne Dekha Jidhar Bhi, Chehre Badle Se Najar Aaye.

गैर थे कौन, अपने थे कौन, हम ये समझ न पाए,
हमने देखा जिधर भी, चेहरे बदले से नजर आए।

1234